ब्राजील की टर्टल सुनामी, जहां हजारों कछुए एक साथ दिखते हैं

ब्राजील दुनिया के खूबसूरत देशों में से एक है, इस देश में एक नदी पर लगभग हजारों की संख्या में साउथ अमेरिकन रिवर टर्टल्स की पूरी सेना दिखाई दी है। केवल एक ही स्थान पर कछुओं की इतनी बड़ी संख्या का होना निश्चित ही सबको हैरान कर रहा है जिसकी एक लुभावनी फुटेज ब्राजील के वाइल्डलाइफ कंजर्वेशन सोसाइटी जारी की है। अमेजन नदी की सहायक नदी प्यूर्स के किनारे पर किसी सुरक्षित जगह पर यह सभी इकट्ठा हुए हैं। इनकी खासियत यह भी है कि यह कछुए दक्षिणी अमेरिका में मीठे पानी के सबसे विशाल कछुए होते हैं।

वाइल्डलाइफ कंजर्वेशन सोसाइटी के अनुसार इस स्थान पर साउथ अमेरिकन रिवर टर्टल्स हर वर्ष प्रजनन हेतु यहां आते हैं। जो कि कई महीनों बाद अपने अंडों से बाहर निकलते हैं। अपने अंडों से बाहर निकल कर फिर यह रेतीले बालू मिट्टी के किनारों से निकलकर नदी की ओर बढ़ जाते हैं। ऐसा कहा जाता है कि कछुओं का यही क्रम बहुत दिनों तक रहता है। यहां पर हर रोज हजारों की संख्या में अपने अंडों से कछुए बाहर निकल कर इस प्रकार के झुंड में रेत पर रेंगते दिखाई देते हैं।

वाइल्डलाइफ कंजर्वेशन सोसाइटी के मेम्बर इस जगह पर वयस्क मादा कछुओं की देखरेख करते हैं। साथ ही यहां पर कछुओं की जो प्रजातियां लुप्त होती जा रही हैं, उन प्रजातियों के प्रबंधन और संरक्षण को बेहतर बनाने हेतु रिसर्च भी किए जाते हैं। इस स्थान पर आम लोगों का आना प्रतिबंधित किया गया है। कछुओं की सुरक्षा पर विशेष ध्यान इसलिए भी दिया जा रहा है क्योंकि साउथ अमेरिकन रिवर टर्टल्स की आबादी घटने के वजह मांस और अंडे की तस्करी भी है।

इसी सम्बन्ध में वाइल्डलाइफ कंजर्वेशन सोसाइटी की एक्वेटिक कैमिला फेरारा ने यह भी बताया कि ये विशालकाय साउथ अमेरिकन रिवर टर्टल्स इसी प्रकार से जन्म लेते हैं। आने के बाद जब यह जन्मस्थान से नदी तक पहुंचने के लिए जद्दोजहद करते हैं वही इन कछुओं के लिए सबसे नाजुक पर होते हैं। कुछ ऐसे स्थान भी है जहां पर इस प्रजाति के कछुओं ने स्वयं को और अपने परिवार को बचाने के लिए बहुत संघर्ष किया है। जन्म के पश्चात शुरुआत में के सभी कछुए झुंड में एक साथ देखते हैं परंतु धीरे-धीरे बाद में यह सभी अलग हो जाते हैं।

आपको बता दें कि यह कछुए अमेजन के पारिस्थितिकी तंत्र का ही एक हिस्सा हैं । ब्राजील में अबुफारी बायोलॉजिकल रिजर्व में वाइल्डलाइफ कंजर्वेशन सोसाइटी तथा ICMBIO इस सम्बंध में एक साथ मिलकर कार्य कर रहे हैं। जब यह कछुए पूरी तरह से वयस्क हो जाते हैं तब इन की लंबाई करीब साढ़े तीन फीट हो जाती है और वजन करीब 90 किलोग्राम से भी ज्यादा हो जाता है।
यह विशेष प्रजाति के कछुए अमेज़न के जंगलों के विस्तार में बहुत सहायक होते हैं क्योंकि यह अमेजन के जंगलों में बीजों को फैलाते हैं और इस प्रकार से यह पारिस्थितिकी तंत्र में अपनी खास भूमिका का निर्वाह करते हैं।

जहां हजारों कछुए एक साथ दिखते हैंब्राजील की टर्टल सुनामी