kukrukoo
A popular national news portal

जानिए भारत के किस सुपरहिट लड़ाकू विमान की विदेश में है मांग

नई दिल्ली।। जानिए भारत के किस सुपरहिट लड़ाकू विमान की विदेश में है मांग । भारत द्वारा विकसित हल्के लड़ाकू विमान( एलसीए) तेजस को खरीदने में कई देशों ने रुचि दिखाई है।

जानिए

तेजस का निर्माण करने वाली स्वदेशी कंपनी हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड( एचएएल) के अनुसार विश्व के कई देशों ने तेजस को खरीदने के प्रति अपनी दिलचस्पी दिखाई है और अगले कुछ वर्षों में इसका पहला ऑर्डर मिलने की उम्मीद है।

वहीं एचएएल के अनुसार भारतीय वायुसेना को 48,000 करोड़ रुपये के सौदे के तहत मार्च, 2024 से तेजस लड़ाकू विमानों की आपूर्ति शुरू हो जायेगी। वायुसेना ने 83 तेजस विमान खरीदे हैं। कुल विमानों की आपूर्ति तक वायुसेना को हर साल 16 तेजस लड़ाकू विमान दिये जायेंगे।

भारतीय वायुसेना और एचएएल के बीच पांच फरवरी को एयरो इंडिया एक्सपो के दौरान इस सौदे पर औपचारिक तौर पर हस्ताक्षर किये जायेंगे और इस मौके पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद भी उपस्थित रहेंगे।

एचएएल के चैयरमैन और प्रबंध निदेशक आर माधवन ने कहा कि चीन के जेएफ- 17 लड़ाकू विमान की तुलना में तेजस – मार्क-1ए के प्रदर्शन का स्तर बहुत बेहतर है। जेएफ-17 की तुलना में तेजस की तकनीक तो अच्छी है ही इसमें बेहतर इंजन ,राडार प्रणाली और इलेक्ट्रॉनिक वारफेयर सूट भी लगे हुए हैं। तेजस की सबसे बड़ी खासियत यह है कि इसमें हवा से हवा में ही ईंधन भरा जा सकता है, जबकि चीनी विमान में यह सुविधा नहीं है।

श्री माधवन के अनुसार शुरू में भारतीय वायुसेना को चार तेजस लड़ाकू विमान की आपूर्ति की जायेगी। उसके अगले साल यानि 2025 से हर साल 16 विमान दिये जायेंगे। एलसीए के के संयंत्र का दूसरा चरण भी पूरा हो गया है। हर साल 16 से अधिक विमानों के निर्माण करने की योजना है, ताकि विदेश से भी ऑर्डर मिलने पर उसे तय समय के अंदर पूरा किया जा सके।

गौरतलब है कि इस महीने की 13 तारीख को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में हुई सुरक्षा मामले की कैबिनेट समिति की बैठक में भारतीय वायु सेना के लिये एचएएल से 73 तेजस-मार्क-1ए लड़ाकू विमान और 10 एलसीए तेजस-मार्क-1 प्रशिक्षण विमान खरीदने को मंजूरी दी गई थी । इनमें से प्रत्येक लड़ाकू विमान की कीमत 309 करोड़ और प्रशिक्षण विमान की कीमत 280 करोड़ रूपये है।

जानिए भारत के किस सुपरहिट लड़ाकू विमान की विदेश में है मांग

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like