kukrukoo
A popular national news portal

कोबरा कमांडो राकेश्वर सिंह की किडनेप से लेकर रिहाई तक की कहानी यहां जानिए

कोबरा कमांडो राकेश्वर सिंह की किडनेप से लेकर रिहाई तक की कहानी यहां जानिए। सुकमा-बीजापुर बॉर्डर पर हुए एनकाउंटर के बाद नक्सलियों द्वारा किडनैप किए गए कोबरा कमांडो राकेश्वर सिंह को आखिरकार छुड़ा लिया गया। जंगल से उन्हें लेने के लिए चार लोगों की टीम गई थी जिसमें कुछ स्थानीय पत्रकार शामिल थे।

कोबरा कमांडो

बस्तर के गांधी कहे जाने वाले धर्मपाल सैनी, गोंडवाना समाज के अध्यक्ष तेलम बौरैय्या, रिटायर्ड शिक्षक जयरूद्र करे और मुरतुंडा की पूर्व सरपंच सुखमती हपका ने जवान की रिहाई में अहम भूमिका निभाई।

उनके साथ पत्रकार गणेश मिश्रा और मुकेश चंद्राकर भी लगातार कोशिश में लगे थे। इन पत्रकारों ने नक्सलियों के साथ संवाद में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की। राकेश्वर सिंह की तस्वीर भी नक्सलियों ने इन्हीं के पास भेजी थी और अपना संदेश दिया था।

नक्सलियों ने कहा था कि सरकार वार्ताकारों की घोषणा करे तभी जवान को छोड़ा जाएगा। इसके बाद मध्यस्थता के लिए चार लोगों को चयन किया गया। कई और पत्रकार भी जवान की रिहाई के लिए नक्सलियों के साथ टच में थे।

न्यूज 18 के मुताबिक पत्रकार चंद्राकर से नक्सलियों ने कहा कि वे जगरगोंडा के जंगल में पहुंचें जहां पर एनकाउंटर हुआ था। वार्ताकारों के साथ कुछ पत्रकार भी घने जंगल में पहुंचे। यहां 20 गांव के हजारों लोगों को इकट्ठा कर ‘जन अदालत’ चल रही थी। इसी बीच जवान राकेश्वर को रस्सी से बांधकर लाया गया और मौजूद लोगों से पूछा गया कि क्या उन्हें छोड़ देना चाहिए। लोगों ने जब हामी भरी तब उनकी रस्सियां खोली गईं।

रिहाई के बाद जवान राकेश्वर सिंह ने बताया कि हमले के दौरान वह बेहोश हो गए थे और तभी नक्सली उन्हें उठा ले गए। इसके बाद छह दिनों तक उन्हें अलग-अलग गांव में घुमाया गया। हालांकि कोई बुरा सलूक नहीं किया गया। खाने-पीने और सोने की उचित व्यवस्था की गई। जहां उन्हें ले जाया गया वह इलाका 15 किलोमीटर के अंदर ही था। जवान को छुड़ाने गए पत्रकार ने बताया कि जन अदालत के दौरान काफी देर तक नक्सली भाषण देते रहे। इसके बाद ही उन्हें छोड़ा गया। चारों मध्यस्थ जवान के साथ तरेंम के रास्ते बासागुड़ा थाने पहुंचे।

राकेश्वर सिंह के सही सलामत छूटने के बाद उनके परिवार में खुशी की लहर दौड़ गई। पिछले कई दिनों से उनका परिवार रिहाई का इंतजार कर रहा था और लगातार सरकार से अपनी अर्जी लगा रहा था। उनकी पत्नी ने सरकार को शुक्रिया अदा किया।

कोबरा कमांडो राकेश्वर सिंह की किडनेप से लेकर रिहाई तक की कहानी यहां जानिए

Credit- जनसत्ता

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like