kukrukoo
A popular national news portal

आज किसान संगठनों का BharatBandh, दिखने लगा है असर।

नई दिल्ली।आज देश के विभिन्न किसान संगठनों ने   भारत बंद बुुुलाया है।  असर सुबह से ही पूरे देश में इसका असर देखने को मिल रहा है। किसान अपनी कुछ मांगों को लेकर अड़े हुए हैं और वे चाहते हैं सरकार हाल ही में पारित नए। किसान   बिल को  रद्द करें  या फिर उसमें एमएसपी का प्रावधान जोड़े। किसान के इस प्रदर्शन को देखते हुए देश भर में लगभग सभी विपक्षी पार्टियों ने अपना समर्थन दिया है। दूसरी ओर बीजेपी ने विपक्ष के इस समर्थन को लेकर उन पर जोरदार हमला किया है। बीजेपी का कहना है कि

कुछ साल पहले यही विपक्षी पार्टियां इसी तरह के बिल का समर्थन कर रही थी और दिल्ली की आम आदमी पार्टी ने तो इसको लेकर अधिसूचना तक जारी कर दी थी।

यह  बंद किसानों ने ऐसे समय बुलाया है जब कल यानी बुधवार को सरकार और किसानों के बीच वार्ता का पांचवा चरण आयोजित होने वाला है। सरकार ने हालांकि बंद नहीं बुलाने की अपील की थी। हालांकि किसान नहीं माने और आज बंद का आह्वान किया। बंद को देखते हुए ना सिर्फ विपक्षी पार्टियों बल्कि कई अन्य संगठनों ने भी अपना समर्थन जाहिर किया है। इसी को देखते हुए आज दिल्ली की विभिन्न मंडियों बंद है।

हालांकि किसान संगठनों ने  कहा कि जरूरी आपूर्तियों को बाधित नहीं करेंगे।

दूसरी ओर गुजरात ऐसा राज्य है,जिसने किसान बंद को समर्थन नहीं देने का फैसला किया है।दूसरी और महाराष्ट्र में , 2 दिन पहले अकाली दल के नेताओं ने मुख्यमंत्री और महा विकास आघाडी दल के नेता उद्धव ठाकरे से मुलाकात की थी और उनसे इस बाबत समर्थन मांगा था । इसको लेकर उन्होंने हामी भरी थी और उसी का असर आज महाराष्ट्र में भी देखने को मिल रहा है। महाराज सरकार की ओर से कहा गया है कि हम बंद का समर्थन भले कर रहे हैं लेकिन किसी भी प्रकार की जोर जबरदस्ती बर्दाश्त नहीं की जाएगी। जो बंद रखना चाहते हैं या करने हैं चाहते हैं, वह कर सकते हैं। लेकिन कोई अगर जोर जबरदस्ती करता हुआ पाया गया तो उसके ऊपर कानूनी कार्रवाई होगी।

हाल के दिनों में इतना बड़ा बंद शायद ही बुलाया गया था। किसान गुस्से में है वह अपनी मांगों को नहीं माने जाने से नाराज है। लेकिन दूसरी और उन्होंने बातचीत का रास्ता पूरी तरह से खुला रखा है। सरकार भी बातचीत करके इस मुद्दे को सुलझाना चाहती है । लेकिन जो मुख्य मांग है किसान की उस पर अभी तक बदलाव को लेकर सरकार ने किसी भी प्रकार का संकेत नहीं दिया है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like